रचना चोरों की शामत

Tuesday, 25 October 2016

सुहिणी, दियड़ो बार!

दीवाली के लिए चित्र परिणाम
करि सिघो सींगारु, सुहिणी, दियड़ो बार!
आयो शुभ त्योहारु, सुहिणी, दियड़ो बार!

रात अमावस, णु त लगे पई, चाँड्रोकी 
झिलमिल आ संसारु, सुहिणी, दियड़ो बार!

आई खणी आ, धन जा बेड़ा, दरि लछमी
करि हुन जो सत्कारु, सुहिणी, दियड़ो बार!

बारे फटाका, खूबु ट्रिड़नि प्या दिसु गुलिड़ा 
घरु-घरु आ गुलज़ारु, सुहिणी, दियड़ो बार!

ठाहे खणी अचु, पूजा-थाल्ही, भोगु भरे
चाढ़ि गुलनि जो हारु, सुहिणी, दियड़ो बार!

सुर में आरती, गाइ पिरिनि साँ, तूँ गदिजी
भली कंदो करतारु, सुहिणी, दियड़ो बार!

वरंदी रहे हर सालि  दियारी, हिन ज में 
कटे दुखनि जो जारु, सुहिणीदियड़ो बार!

-कल्पना रामानी

Sunday, 18 September 2016

घुमण जी आ वेला

भोर का तारा के लिए चित्र परिणाम

खुली अखि दिठो मूँदिसे प्यो सितारो
असुर जो दरीअ खाँ, सदे प्यो सितारो

घुमण जी आ वेला, विहाणो छदे दे
उथी बाग में हलु, चवे प्यो सितारो

धिके हंधु परे, पेर मुहिंजा हली प्या  
दिसी मूँखे गदु-गदु हले प्यो सितारो

बगीचे अँदरि प्राण दींदड़ि हवा में
पखिनि साँ बि गाल्हियूँ करे प्यो सितारो

ट्रिड़णु गुल-कलिनि जो ऐं झिरकिनि जो गाइणु
निहारे खुशीअ साँ ट्रिड़े प्यो सितारो

सुबुह थ्यो, जिएँ कल्पना सूर्जु जाग्यो
दिठुमि पए सुम्हण लइ वञे प्यो सितारो


-कल्पना रामानी 

फगुण जूँ हवाऊँ

होली के लिए चित्र परिणाम
गुण जूँ हवाऊँ खणी रंगु आयूँ
अचो दोस्त! सभु गदिजी होली मनायूँ

मिली जेका बोनस में णितिनि जी ठिड़ी
उमंगुनि जे रंगनि में तहिं खे वहायूँ

खुशी-जोशु केदोबारनि बुढनि में
ट्रिड़नि प्या गुलनि ज्याँ विराहे मिठायूँ

पियनि प्या, नचनि प्या, खणी भंग-प्यालो
रँगनि अहिड्यूँ सभिनी जूँ दिलिड्यूँ मिलायूँ

जली व्या फरक-फेर, सभु होलिका में
दिलिनि माँ सभिनि जे बरी थ्यूँ बुरायूँ

दिसी बूरु अंबनि ते कोयल थी कूके
बसंती बयारूँ बगीचनि में आयूँ

मिल्या कल्पनाचार होलीअ जा दींहड़ा
मिली छो न मस्तीअ में गायूँ-वजायूँ

-कल्पना रामानी

Google+ Followers