रचना चोरों की शामत

Saturday, 18 June 2016

सिक जो सूरजु आखिर उगंदो

चित्र से काव्य तक
हर माण्हूँ पहिंजापो घुरंदो।
सिक जो सूरजु आखिर उगंदो। 

शहरनि जो पक्को हर रस्तो
कचिनि गलिनि खे जोड़े रखंदो।

रामु नज़र ईंदो मस्जिद में
ऐं रहीमु मंदिर में झुकंदो। 


दिसी परियाँ दुश्मन जो पाछो
गुलु बि कंडनि जी कुंड में लिकंदो

खलिहाननि जो हकु हुकुमनि खे
कंधु झुकाए दियणो पवंदो।

पापनि ऐं ज़ुल्मनि खे क़ीतो
करिणीअ जो जियरे ही मिलंदो।

हर मौसमु थींदो दिण वांगुरु
हर घर में हिकु दियड़ो रंदो।   

आखिर मुहिंजो साथी सुपिनो
कूड़ु कल्पना केसीं चवंदो

-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers