रचना चोरों की शामत

Friday, 3 June 2016

साजन तोखे वेठी सारियाँ

साजन तोखे वेठी सारियाँ।
हर-हर पई माँ वाट निहारियाँ।

अचे टेरि तूँ मुहिंजीअ छिति ते
चई काँव खे पई पुकारियाँ।

तूँ बि त हूँदें मूँ बिन माँदो
आथतु ई पई दिल खे ठारियाँ।

हिकु-हिकु पलु णु वरिह संदो आ
दींह विरह जा कींअ गुज़ारियाँ।

रोजु रात निंड्र रुसी वञे थी
लोली दियाँ या थफे सुम्हारियाँ।

कहिड़ी दाइणि घुमी वई घरु
सोचे पई थी नज़र उतारियाँ।

सरतियूँ तो लइ रोजु पूछनि थ्यूँ
भला छा चई तिनि खे टारियाँ।

बस हिकु दफो बुधाइ कल्पना
केसीं पहिंजे मन खे मारियाँ। 

-कल्पना रामानी 

No comments:

Google+ Followers