रचना चोरों की शामत

Friday, 3 June 2016

धरती रोए थी

दिसी काल जो सायो, धरती रोए थी।
हुन जा प्राण बचायो, धरती रोए थी।

खणी कुहाड़ी शहरनि घेरे, झंगलनि खे  
हिकु-हिकु वणु केरायो, धरती रोए थी।

मौको दिसी भूचाल-सुनामिनि, काह करे
हुन ते अझो बणायो, धरती रोए थी।

मानसूनु व्यो वापसि, खाली ककर दिसी
सावणु मिलण न आयो, धरती रोए थी।  

चीरे अंदरु मशीनिनि हुन जो तरे संदो    
पाणी गिही सुकायो, धरती रोए थी।

दिसी बंद बोतल में जलु, ऊँधा मटका
सोचे छो दींहुँ आयो, धरती रोए थी। 
  
गोढ़ा तुहिंजा उघंदासे, ई वचनु इहो
हुन खे हाणि परचायो, धरती रोए थी

मनुष जाणु! तूँ पाण कल्पना आफत खे
ञापो ई सदायो, धरती रोए थी। 

-कल्पना रामानी   

No comments:

Google+ Followers