रचना चोरों की शामत

Saturday, 16 July 2016

गंगा किनारे


पुण्य जो मेलो लगो, सभु प्या मिड़नि गंगा किनारे।  
पाप जी हड़ गदु णी तन था तरनि गंगा किनारे।

खूब खोटा कम कया पए, जिनि हथनि कल्ह ताईं,जु हू
खोट ते कलई करे प्या, दान कनि गंगा किनारे।

रतु गरीबनि जी कढी चूसे, दिसो बगुला-भत कींअ
राम जो नालो रटे प्या था नचनि गंगा किनारे।

लठि-खणी लुट-फुर करे, जिनि खे दिनऊँ कल्ह हथि कटोरा 
तिनि कटोरनि में प्या अजु सिक्का विझनि गंगा किनारे।

प्या टुब्यूँ द्यनि धार में, जेके बियनि जा बोड़े बेड़ा
पार तिनि जा कींअ भला, बेड़ा थियनि गंगा किनारे।    

दे सुमति भागीरथी! पापिनि उन्हनि खे, जेके तोखाँ
मोखु प्या था कल्पना हर-हर घुरनि गंगा किनारे। 

-कल्पना रामानी

Google+ Followers