रचना चोरों की शामत

Thursday, 11 August 2016

हिकु आईनो सभिनि दिनो आ


चवनि पया हथ धी, असाँखाँ रामु रुठो आ।
हथ जोड्यो धनु मिलंदो, छा हीउ राम चयो आ?

बरकत कींअ पवे, सोचे हू अंध-विश्वासी   
लीमा-मिर्च टँगे अखि बूटे सुम्हीं पयो आ। 

बेदोहिनि जो रतु चूसींदो रह्यो उमिरि भरि  
कालु दिसी गंगाजल जो ढुकु भरिण लगो आ।  

लुटे-फुरे घरु ठाहे जहिं कयईं उद्घाटनु
दिठईं सूखिड़ी, हिकु आईनो सभिनि दिनो आ।

पाए हार गुलनि जा मानु गिन्हीं घरि आयो
खिली पुछ्युसि आईने, छा ही मुँहु तुहिंजो आ?

हरु न हलायईं, पघरु न गाड्यईं, बस बिज पोखे
फसल सोन जहिड़ीअ जो सुपनो, दिसण लगो आ।

घिण्ट वजाया,न कया पर अजु ताईं मूँ
कोन कल्पना’, जागे अहिड़ो देवु दिठो आ। 

-कल्पना रामानी   

No comments:

Google+ Followers