रचना चोरों की शामत

Wednesday, 24 August 2016

इन्साफु किथे आ



हिन दुनिया में अहिड़ो को इंसानु किथे आ
जेको से दुखीअ खे रहंदो रामु किथे आ

करे मज़ूरी मिले सुकल रोटी थी जिनि खे
से छा जाणनि सुपिननि जो संसारु किथे आ  

सिजु उभिरे या लहे, भला छा दिसी कंदा हू 
पघरु वहाइण वारनि खे, आरामु किथे आ

दिनी दगा तिनि सभिनि, कयो मूँ जिनि ते वेसहु 
हाणे खुदि खाँ पई पुछाँ, विश्वासु किथे आ  

दोह बरी थ्यनि बेदोहिनि खे मिलनि सज़ाऊँ
केरु बुधाए दोस्त! सचो इन्साफु किथे आ 

शगलु नईं पीढ़ीअ जो आ दिलि तोड़िणु-जोड़िणु
तोड़ि निभाए जेको अहिड़ो प्यारु किथे आ

कोन कल्पनाजाणे सघ्यमि सजोगु छाणे
भर्यल कूड़ साँ ज में सच जो वासु किथे आ 

-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers