रचना चोरों की शामत

Sunday, 18 September 2016

फगुण जूँ हवाऊँ

होली के लिए चित्र परिणाम
गुण जूँ हवाऊँ खणी रंगु आयूँ
अचो दोस्त! सभु गदिजी होली मनायूँ

मिली जेका बोनस में णितिनि जी ठिड़ी
उमंगुनि जे रंगनि में तहिं खे वहायूँ

खुशी-जोशु केदोबारनि बुढनि में
ट्रिड़नि प्या गुलनि ज्याँ विराहे मिठायूँ

पियनि प्या, नचनि प्या, खणी भंग-प्यालो
रँगनि अहिड्यूँ सभिनी जूँ दिलिड्यूँ मिलायूँ

जली व्या फरक-फेर, सभु होलिका में
दिलिनि माँ सभिनि जे बरी थ्यूँ बुरायूँ

दिसी बूरु अंबनि ते कोयल थी कूके
बसंती बयारूँ बगीचनि में आयूँ

मिल्या कल्पनाचार होलीअ जा दींहड़ा
मिली छो न मस्तीअ में गायूँ-वजायूँ

-कल्पना रामानी

No comments:

Google+ Followers